Financial Market Kya Hota Hai -Full Jankari Hindi Me

फाइनेंसियल मार्केट वह स्थान या सिस्टम होता है। जहाँ फाइनेंसियल प्रोडक्ट जैसे स्टॉक्स, बांड्स, करेंसी, डेरिवेटिव्स आदि फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट्स लगातार खरीदी ट्रेडिंग होती हैं। फाइनेंशियल मार्केट उन लोगों को बातचीत की सुविधा प्रदान करते हैं। जिन्हें पूँजी की जरूरत होती है और जिनके पास इन्वेस्ट करने के लिए पूँजी है।  

जब किसी बैंक के पास, किसी कंपनी के पास, किसी फाइनेंशियल इंस्टीटूशन के पास या किसी इंडिविजुअल के पास पैसा ख़त्म हो जाता है। तब वे लोग पैसा खरीदने के लिए Financial market जाते हैं। आइए विस्तार से जानते हैं-
 फाइनेंशियल मार्केट की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में। Financial Market Kya Hota Hai- Full Jankari Hindi Me. 
Financial Market

यदि आप कम समय में शेयर मार्केट एक्सपर्ट बनना चाहते हैं तो आपको शेयर मार्केट गाइड और संबंधित बुक्स जरूर पढ़ना चाहिए। 

Financial Market क्या है?

फाइनेशियल मार्केट एक ऐसा बाजार है। जहाँ पर लोग सिक्युरिटीज, कमोडिटीज, बांड्स, stocks और करेंसी आदि में बहुत कम ट्रांजेक्शन कॉस्ट पर trading करते हैं। यहाँ पर डिमांड और सप्लाई के अनुसार, सभी इंस्टूमेंट्स का प्राइस तय होता है। सिक्यूरिटीज में शेयर, बॉन्ड ,करेंसी तथा कमोडिटीज में मेटल एवं कृषि उत्पाद की ट्रेडिंग भी फाइनेंशियल मार्केट होती है। स्टॉक्स मार्केट भी फाइनेंशियल मार्केट के अंतर्गत आता है।                                                                                                                                                                                            
इसके बारे में सबसे पहली बात जो हमारे दिमाग में आती है। वह यह कि Financial  Market होता क्या है? इसे हम किसी भी साधारण मार्केट के तरीके से समझते है। जैसे मार्केट वह जगह होती है, जहाँ सामान खरीदने वाले तथा बेचने वाले लोग मिलते है। यानी एक तरफ वो लोग है, जो सामान बेचना चाहते है तथा  दूसरी तरफ वो लोग है। जो सामान खरीदना चाहते है।  जैसे सब्जी मंडी में कुछ लोग सब्जी बेचने वाले होते है तथा कुछ लोग सब्जी खरीदने वाले होते है।                                                                                                                                                                                                                                                             
इसी तरह Financial Market होता है, यहाँ पर रुपयों का लेन-देन होता है। यहाँ पर कमोडिटी है रुपया, एक तरफ ऐसे लोग है जिनके पास एक्सट्रा पैसा है। दूसरी तरफ वे लोग है जिन्हे पैसे की जरूरत है। एक ऐसा मार्केट जहाँ ऐसे  लोग मिलते हैं। जिनमे कुछ लोगों  के पास एक्सट्रा पैसा है तथा कुछ लोगों को पैसे की जरूरत है। उसे फाइनेंसियल मार्केट कहते है। 

पूँजीवादी अर्थव्यवस्थाओं को चलने के लिए फाइनेंशियल मार्केट बहुत जरूरी होते हैं। फाइनेंशियल मार्केट कई प्रकार के होते हैं जैसे स्टॉक मार्केट, फोरेक्स मार्केट, बांड्स मार्केट, कमोडिटी मार्केट आदि। और भी कई अन्य प्रकार के financial market होते हैं। इन मार्केट्स में ऐसी एसेट्स या सिक्युरिटीज शामिल हो सकती हैं। 

जो रेग्युलेटेड एक्सचेंज पर लिस्ट होती हैं या ओवर-द-काउंटर ( OTC ) ट्रेड करती हैं। फाइनेंशियल मार्केट्स सभी प्रकार की सिक्युरिटीज में trading करते हैं। जो पूँजीवादी अर्थव्यवस्था के सुचारु रूप से संचालन के लिए जरूरी होते हैं। जब financial markets विफल होते हैं तो देश में आर्थिक मंदी आती है और बेरोजगारी भी बढ़ती है।

Financial Market को समझें 

फाइनेंशियल मार्केटस पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में आंत्रप्रन्योर्स और बिजनेस के सुचारु रूप से संचालन के लिए money की लिक्विडिटी बनाये रखने में महत्वपूर्ण रोल अदा करते हैं। यह मार्केट बायर और सेलर के लिए अपनी फाइनेंशियल होल्डिंग की ट्रेडिंग को आसान बनाता है। 

फाइनेंशियल मार्केट ऐसे सिक्युरिटीज प्रोडक्ट बनाते हैं। जिनसे ज्यादा धनराशि वाले लोग ( investors / lenders ) अपनी धनराशि पर अच्छे रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। यही फंड्स ( धनराशि ) जिन्हें ( कर्ज लेने वाले ) अतिरिक्त धन की जरूरत होती है, उन्हें उपलब्ध कराते हैं।  

Share market भी एक तरह का फाइनेंशियल मार्केट ही है। ये तब बनते हैं जब लोग स्टॉक्स, कमोडिटी, करेंसी, डेरिवेटिव आदि इंस्ट्रमेंट खरीदते और बेचते हैं। फाइनेंशियल मार्केट अपने प्रोडक्ट की सही प्राइस तय करने के लिए ट्रांसपेरेंट न्यूज पर बहुत अधिक निर्भर करते हैं। कुछ financial markets बहुत छोटे होते हैं। उनमें बहुत कम एक्टिविटीज होती है। 

जबकि अन्य जैसे नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( NSE ) में रोज सिक्युरिटीज में अरबों, खरबों रूपये की ट्रेडिंग होती है। शेयर मार्केट इन्वेस्टर्स और ट्रेडर्स को पब्लिकली ट्रेडेड कंपनियों के शेयर buy & sell करने में सक्षम बनाता है। प्राथमिक शेयर मार्केट वह होता है, जहाँ कंपनियों के आईपीओ बेचे जाते हैं। जहाँ इन्वेस्टर्स और ट्रेडर्स पहले से सूचीबद्ध stocks को खरीदते और बेचते हैं उसे सेकेंडरी मार्केट कहते हैं। 

Financial Market पार्टिसिपेंट्स

फाइनेंशियल मार्केट में निम्नलिखित तीन तरह से पार्टिसिपेंट्स होते हैं- 
  1. Household: हाउसहोल्ड वो सेक्टर होता है, जो पैसों की बचत करता है। यानी जिनके पास एक्सट्रा पैसा होता है।            
  2. Firm & Government: फर्म एंड गवर्नमेंट वो होते है जिन्हे रुपयों की जरूरत होती है। इन्हे अपने बिजनेस के विस्तार के लिए तथा खर्चे  चलाने के लिए रुपयों की जरूरत होती है।             
  3. Financial Intermediaries: फर्म एंड गवर्नमेंट को हाउसहोल्ड (सरप्लस फंड वाले ) से मिलाने वाले को फाइनेंशियल इंटरमीडियरी (financial intermediaries) कहते है। इसे मिडिलमेन या ब्रोकर की तरह समझ सकते है।                 

Financial Market के प्रकार 

मार्केट कई प्रकार के होते हैं, यह प्रत्येक इंस्ट्रूमेंट के टाइप और क्लास पर निर्भर करता है। इसके कुछ मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं-        

Stock Market 

संभवतः फाइनेंशियल मार्केट में सबसे सर्वव्यापी शेयर मार्केट है। स्टॉक मार्केट वह स्थान जहाँ अपर कंपनियां अपने को सूचीबद्ध करती है। जिन्हें ट्रेडर्स आउट इन्वेस्टर्स के द्वारा खरीदा और बेचा जाता है। शेयर मार्केट का उपयोग कंपनियां पूँजी जुटाने और अपने वेल्थ को बढ़ने के लिए करती हैं। ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स अच्छे रिटर्न पाने के लिए Stock market का उपयोग करते हैं। 

शेयर की ट्रेडिंग स्टॉक एक्सचेंज जैसे नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( NSE ) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( BSE ) आदि पर या ओवर-द-काउंटर ( OTC ) मार्केट में किया जा सकता है। अधिकांश स्टॉक ट्रेडिंग रेग्युलेटेड एक्सचेंजों के माध्यम से होती हैं। ये देश की इकोनॉमी में अपना महत्वपूर्ण आर्थिक योगदान देती हैं। यह आर्थव्यवस्था में धन प्रवाहित करने का एक तरीका है। 

शेयर मार्केट पार्टिसिपेंट्स में इन्वेस्टर्स, ट्रडर्स, मार्केट मेकर्स स्पेशलिस्ट शामिल होते हैं। जो मार्केट मेंदोनों साइडेड लिक्विडिटी बनाये रखते हैं। स्टॉक ब्रोकर्स तीसरे पक्ष होते हैं, जो buyer & seller को ट्रेडिंग की सुविधा प्रदान करते हैं। लेकिन ये stocks में रियल पोजीशन नहीं लेते हैं।
 

Money Market

मनी मार्केट देश की अर्थवयवस्था का  महत्वपूर्ण घटक  है। जो आमतौर पर अल्पकालिक ऋण (एक साल कम) उपलब्ध करवाता है। यह स्थानीय और इंटरनेशनल ट्रेडर्स को उनकी शार्ट-टर्म तथा आपातकालीन जरूरतों के लिए ऋण उपलब्ध करवाता है। यह वस्तुओं सेवाओं लिए उचित ब्याज दर पर तत्काल फंड्स उपलब्ध करवाता है।

यदि आप शार्ट टर्म के लिए रुपया चाहते है। तो आपको मनी मार्केट के बारे में कहा जायेगा। यदि आप एक साल  से ज्यादा के लिए रुपया चाहते है। तो आपको कैपिटल मार्केट (capital market ) जाना पड़ेगा। मनी मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने पर अन्य financial markets की तुलना में मनी मार्केट में रिस्क ना के बराबर होता है। किन्तु उस पर रिटर्न भी कम मिलता है लेकिन बैंक से ज्यादा रिटर्न मनी मार्केट में मिलता है। कॉल & पुट ऑप्शंस

मान लीजिये आपको अपने स्टाफ को सैलरी देनी है या सरकार को अपने कर्मचारियों को सैलरी के लिए रुपयों की जरूरत है। किसी फर्म को रॉमेटीरियल खरीदना है। अगर इस तरह के खर्चो के लिए रुपयों की जरूरत है। तब आपको मनी मार्केट जाना चाहिए, क्योंकि आप को कम समय के लिए रुपयों की जरूरत है। 

इंस्टीटूशन्स आउट ट्रेडर्स के मध्य Money market में लार्ज वॉल्यूम ट्रेडिंग होती है। मनी मार्केट में रिटेल इन्वेस्टर्स, म्यूच्यूअल फंड्स और बैंक शार्ट-टर्म के लिए पैसे इन्वेस्ट करते हैं।  

ओवर-द-काउंटर मार्केट्स ( OTC ) 

ओवर-द-काउंटर मार्केट डिसेनरलाइज़्ड मार्केटस होते हैं। किसका अर्थ होता है कि इनमें कोई भौतिक लोकेशन नहीं होती है। सम्पूर्ण ट्रेडिंग इलेक्ट्रॉनिक रूप में की जाती है। जिसमें मार्केट पार्टिसिपेंट्स सीधे सिक्युरिटीज में ( मतलब बिना स्टॉक ब्रोकर के ) ट्रेडिंग करते हैं। 

OTC मार्केटस में बहुत कम मात्रा में ट्रेडिंग होती है। जबकि अधिकांश ट्रेडिंग स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से ही की जाती है। जबकि कुछ डेरिवेटिव मार्केट्स OTC हैं। जो financial markets का एक जरूरी सेगमेंट हैं। मोठे तोर पर कहें तो OTC मार्केट्स कम लिक्विड और कम पारदर्शी होते हैं।   

Derivatives Market

डेरिवेटिव दो या दो से लोगों के बीच कॉन्ट्रेक्ट होता है। डेरिवेटिव्स मार्केट भी financial markets का ही एक भाग होता है। जिसमें वित्तीय उपकरणों जैसे फ्यूचर्स एंड ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट को खरीदा और बेचा जाता है। जो अन्य एसेट्स के रूपों से प्राप्त होते हैं। फ्यूचर्स एंडऑप्शन मार्केट जहाँ F&O कॉन्ट्रेक्ट्स लिस्ट और ट्रेड किये जाते हैं।

डेरिवेटिव्स मार्केट मानकीकृत अनुबंधों का उपयोग करते हैं और अच्छी तरह से वेल-रेग्युलेटेड होते हैं। ये ट्रेडों के निपटान के लिए क्लियरिंगहाउस का उपयोग करते हैं। फ्यूचर्स एंड ऑप्शन मार्केट्स में विभिन्न एसेट्स क्लास जैसे इक्विटीज, करेंसी, कमोडिटीज आदि के कॉन्ट्रेक्ट्स लिस्ट हो सकते हैं। 

Bond Markets     

बांड्स एक सिक्युरिटीज होते हैं, जिन्हें इन्वेस्टर्स पूर्व निर्धारित ब्याज पर एक निर्धारित अवधि के लिए खरीदते हैं। आप एक बॉन्ड को लोन लेने वाले और लोन देने वाले के बीच एक समझौते के रूप में मान सकते हैं। कॉर्पोरेशंस और शहरों के नगर निगम के सुचारु रूप से संचालन के लिए सरकारें बांड्स जारी करके उन्हें वित्पोषित करती हैं। FII & DII 

Forex Market 

फोरेक्स मार्केट यानि विदेशी मुद्रा बाजार वह स्थान होता है। जहाँ मार्केट पार्टिसिपेंट्स फॉरेन करेंसी के एक्सचेंज रेट के लिए फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग करते हैं। यानि दो देशो के करेंसी जोड़े को buy, sell hedging और स्पेक्युलेशन करते हैं। फोरेक्स मार्केट दुनिया का सबसे लिक्विड मार्केट है। यानि इसमें ट्रेडिंग वॉल्यूम सबसे जयदा रहता है। फोरेक्स करेंसी में 7.5 ट्रिलियन से ज्यादा की डेली ट्रेडिंग होती है। 

OTC मार्केट्स की तरह फोरेक्स मार्केट भी डिसेंट्रलाइजेड है। इसमें दुनियाभर के कम्प्यूटर्स और ब्रोकर्स का नेटवर्क शामिल है। Forex market बैंकों, कमर्शियल कंपनियों, इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट फर्म्स, सेन्ट्रल बैंक, हेज फंड्स, रिटेल फोरेक्स ट्रेडर्स और ब्रोकर्स से मिलकर बना है। 


Commodities Markets 

कमोडिटी मार्केट वह स्थान होता है जहाँ इन्वेस्टर्स बहुत सारी कमोडिटीज जैसे सोना, चाँदी, प्लेटिनम, जिंक, कॉपर, जीरा, हल्दी, कपास, क्रूड ऑइल, गैस. मैथा ऑइल आदि में ट्रेडिंग की जाती है। हाल के दिनों में भारत में फॉरवर्ड मार्केट ऑफ कमीशन ने 120 कमोडिटीज में फ्यूचर ट्रेडिंग की अनुमति दी है। 

हालाँकि इन कमोडिटीज की ट्रेडिंग अधिकतर डेरिवेटिव मार्केट में होती है। जो अंडरलाइंग एसेट के रूप में स्पॉट कमोडिटीज का उपयोग करते हैं। भारत में कमोडिटीज की फ्यूचर ट्रेडिंग ज्यादातर मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ( MCX ) पर होती है।  

Cryptocurrency markets

स्वतंत्र ऑनलाइन क्रिप्टो एक्सचेंजों के माध्यम से विश्व स्तर पर हजारों क्रिप्टोकरेंसी टोकन उपलब्ध हैं। जिनमें क्रिप्टो ट्रेडिंग किया जाता है। क्रिप्टो एक्सचेंज, ट्रेडर्स के लिए एक क्रिप्टोकरेंसी को दूसरे के लिए या डॉलर,रुपी या यूरो जैसे फिएट मनी के लिए स्वैप करने के लिए डिजिटल वॉलेट की मेजबानी करते हैं। 

अधिकांश क्रिप्टो एक्सचेंज सेंट्रलाइज्ड प्लेटफॉर्म हैं। इसके उपयोगकर्ता हैक या धोखाधड़ी गतिविधि के प्रति संवेदनशील होते हैं। इसके डीसेंट्रलाइज्ड एक्सचेंज भी उपलब्ध हैं, जो बिना किसी केंद्रीय प्राधिकरण के संचालित होते हैं। ये क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज लेनदेन को सुविधाजनक बनाने के लिए वास्तविक विनिमय प्राधिकरण के बिना सीधे पीयर-टू-पीयर (पी2पी) ट्रेडिंग की अनुमति देते हैं। प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी पर फ्यूचर एंड ऑप्शन में भी ट्रेडिंग उपलब्ध रहती है है। 

Financial markets अपने पार्टिसिपेंट्स को लिक्वीडिटी, पूँजी और भागीदारी प्रदान करते हैं। को देशों के आर्थिक विकास के लिए जरूरी है। फाइनेंशियल मार्केट्स के बिना वित्तीय पूँजी को प्रभावी तरीके से आवंटित नहीं किया जा सकता है। इसके बिना देश के आर्थिक विकास के लिए जरूरी गतिविधियाँ बहुत कम हो जाएँगी। यह अर्थव्यवस्था का जरूरी हिस्सा है। 

कंपनियां सुचारुरूप से संचालन के लिए जरूरी पूँजी जुटाने के लिए स्टॉक और बॉन्ड मार्केट का उपयोग करती है। स्पेक्युलेटर्स भविष्य की कीमतों पर डायरेक्शनल दांव लगाने के लिए विभिन्न एसेट्स क्लास पर नजर रखते हैं। साथ ही हेजर्स, हेजिंग के द्वारा अपने विभिन्न तरह के जोखिमों की कम करने के लिए डेरिवेटिव मार्केट्स का उपयोग करते हैं। 

आर्बिट्रेजर्स विभिन्न एक्सचेंजों पर एसेट्स के प्राइस में होने वाली विसंगतियों से प्रॉफिट कमाने की कोशिश करते हैं। ब्रोकर्स मध्यस्थ के रूप में काम करते हैं और कमीशन से अपनी इनकम जैरेट करते हैं। 

उम्मीद है, आपको यह आर्टिकल Financial market kya hota hai-full jankari Hindi me पसंद आया होगा।यदि आपको फाइनेंशियल मार्केट की सम्पूर्ण जानकारी आर्टिकल पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। अगर आपके मन में इस आर्टिकल के बारे में कोई सवाल या सुझाव है। तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। यदि आप ऐसी ही ज्ञानवर्धक जानकारी फ्री में प्राप्त करना चाहते है।  तो हमारी इस वेबसाइट को सब्सक्राइब जरूर करें।आप हमें facebook पर फॉलो कर सकते हैं।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

2 टिप्‍पणियां:

Jason Morrow के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.