Stop Loss कहाँ तथा कैसे लगायें - Stop loss in trading

स्टॉप-लॉस ऑर्डर, स्टॉक ब्रोकर को शेयर खरीदने या बेचने के लिए दिया गया ऐसा आर्डर होता है। जब स्टॉक निश्चित प्राइस ( स्टॉप-लॉस का प्राइस ) पर पहुँचकर अपने आप कट जाता है। Stop-loss को ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स के नुकसान को सीमित रखने के लिए डिजाइन किया गया है। 

स्टॉक मार्केट उधर ही घूमता है, जिधर वह घूमना चाहता है। अतः ना चाहते हुए भी traders अक्सर गलत पोजीशन में फंस जाते हैं। जिससे उनका बहुत ज्यादा नुकसान हो जाता है। इसी नुकसान को कम करने के लिए स्टॉप-लॉस लगाया जाता है। आइए जानते हैं- Stop Loss कहाँ तथा कैसे लगायें? Stop Loss in Trading.

Stop Loss कहाँ  तथा कैसे लगायें ?
                 

यदि आप कम समय में शेयर मार्केट एक्सपर्ट बनना चाहते हैं तो आपको रवि पटेल द्वारा लिखित टेक्निकल एनालिसिस और कैंडलस्टिक की पहचान बुक जरूर पढ़नी चाहिए। 

स्टॉप लॉस को ट्रेड मैनेजमेंट टेक्नीक भी कहा जाता है। स्टॉप लॉस सेटिंग का पहला रूल ये है कि यदि आपका  स्टॉप लॉस हिट होता है तो इसका मतलब आपका ट्रेडिंग आईडिया गलत है। तब आपको अपनी ट्रेडिंग पोजीशन बंद कर देनी चाहिए। ट्रेडिंग का पहला नियम यह है कि हर बार stop loss लगाना चाहिए। 

यदि कभी स्टॉप लॉस लगाने का मन नहीं है, तो उस दिन आपको ट्रेडिंग ही नहीं करनी चाहिए। यदि सही तरीके से इसका उपयोग किया जाये तो स्टॉप-लॉस आर्डर तो यह आपकी शेयर ट्रेडिंग प्रॉफिट में बहुत बड़ा अंतर ला सकता है। अतः प्रत्येक शेयर मार्केट ट्रेडर और investors को स्टॉप-लॉस ऑर्डर लगाना चाहिए। 

ट्रेडिंग पोजीशन के आपके प्रतिकूल मूव होने पर यह आपके नुकसान को सीमित रखता है। जिससे आप दोबारा ट्रेडिंग करके अपने नुकसान की भरपाई कर सकते हैं। स्टॉप-लॉस ऑर्डर का उपयोग करने का एक प्रमुख लाभ यह है कि आपको प्रतिदिन अपनी होल्डिंग्स की निगरानी करने की आवश्यकता नहीं है। 

लेकिन Stop-loss का एक नुकसान यह है कि यह शार्ट-टर्म प्राइस वोलेटिलिटी की वजह से अनावश्यक ट्रिगर हो सकता है। जिससे थोड़ा ही सही परन्तु बेवजह नुकसान तो होता ही है। 

                                                                           

स्टॉप-लॉस के प्रकार

स्टॉप लॉस लगाने के वैसे तो अनेक तरीके होते हैं, लेकिन यहां हम Stop Loss के चार प्रकार के बारे में जानकारी दे रहे हैं-                                                                                                                                             

प्रतिशत पर आधारित Stop Loss  

                                                                                                                       
प्रतिशत के आधार पर लगने वाला स्टॉप-लॉस पूर्वानुमान से लगाया जाता। जिसमें ट्रेडर, एक ट्रेड में अपने अकाउंट का दो प्रतिशत तक जोखिम उठाते हैं। जो बहुत ज्यादा महत्वाकाक्षी ट्रेडर होते वह दस प्रतिशत तक का जोखिम उठाते हैं। लेकिन ऐसा करना नहीं चाहिए क्योंकि इससे एक-दो ट्रेड में ही आपके अकाउंट की पूरी राशि ख़त्म हो सकती हैं। Opening and closing time of stock market                                                                                                                                                        
Stop loss लगाने से पहले आपको अपने आप से ये पूछना चाहिए हम सभवतः कहाँ पर स्टॉप लॉस लगा सकते हैं। यदि आपका ट्रेड गलत साबित होता है तो आपको अपने आप से यह भी पूछना कि आप कहाँ गलत थे।  क्रिप्टो करेंसी                                                                                                                                                                        

प्राइस Volatility पर आधारित Stop Loss                                                                                                                                                                                                                                                        

प्राइस वोलैटिलिटी बेस्ड स्टॉप-लॉस का अर्थ है, स्टॉक्स की कीमत में उतार-चढ़ाव, ज्यादा वोलैटिलिटी की वजह से ट्रेडिंग करने में बहुुत ज्यादा जोखिम होता है। एक्टिव ट्रेडर्स इसलिए सरवाइव कर पाते हैं क्योंकि वह initial stop loss यूज करते हैं। अपने प्रॉफिट को लॉक करने के लिए trailing stop loss भी लगाते हैं। Money mantra for stock market

प्राइस वोलैटिलिटी बेस स्टॉप-लॉस लगाने के लिए Volatility stop indicator tool का उपयोग करके स्टॉप-लॉस लगा सकते हैं। 

इस तरह VOLATILITY STOP का यूज करके ट्रेडिंग के दौरान stop loss लगा सकते हैं। इसमें डाउनट्रेंड के लिए प्राइस बार के ऊपर लाल डॉट्स बनी होती है तथा प्राइस बार के नीचे हरी डॉट्स अपट्रेंड के लिए बनी होती हैँ। लाल तथा हरे रंग डॉट्सके आधार पर स्टॉप लॉस लगाया जाता है।                                                                                                                                                                                                                            

सपोर्ट एंड रेजिस्टेंस पर आधारित Stop Loss                                                                                                                                                                                                                            

स्टॉप-लॉस चार्ट के आधार पर भी लगाया  जा सकता है। चार्ट पर प्राइस एक्शन पर गौर करने पर आप देखेगें कि प्राइस एक निश्चित लेवल के ऊपर तथा नीचे नहीं जा पाते। इस लेवल को सपोर्ट एंड रेजिस्टेंस लेवल कहते हैं। प्राइस निश्चित सपोर्ट और रेजिस्टेंस को बार-बार रीटेस्ट करते है तथा पोटेंशियली होल्ड करते हैं।

आपको इन्हीं S&R के पीछे stop loss लगाना चाहिए। यानि आप किसी शेयर को long (खरीदना) कर रहे हैं तो हमे उसके सपोर्ट एरिया के नीचे स्टॉप-लॉस लगाना चाहिए तथा यदि आप  sell (शॉर्ट सेलिंग) कर रहें हैं तो स्टॉप लॉस resistance area के ऊपर लगाना चाहिए।  

                                                                                  
Stop loss based on support and resistance level

   

टाइम लिमिट पर आधारित Stop loss                                                                                                                                                                                                                                                              

टाइम लिमिट पर आधारित stop loss को तब लगाया जाता है। जब ट्रेड को पूर्वनिर्धारित समय तक होल्ड किया जाता है जैसे- इंट्राडे, एक सप्ताह इत्यादि। उदाहरण स्वरूप- जैसे कि आप एक इंट्राडे ट्रेडर हैं तथा आपने एक लॉन्ग ट्रेड लिया हुआ है। लेकिन उसमे ना तो टार्गेट अचीवे हो रहा है और ना ही stop loss हिट हो रहा है।

अब आपको यह लग रहा है कि इस ट्रेड में पैसे को क्यों लॉक रखा जाय। इसी पैसे का हम दूसरी जगह उपयोग कर सकते हैं। तो आप  उस ट्रेड को बंद कर देते हैं। इसका दूसरा उदाहरण- जैसे कि कोई swing trader है तथा वह फ्राइडे को अपनी पोजीशन को बंद कर देता है। क्योंकि वो weekend event risk से बचना चाहता है तब वह टाइम लिमिट बेस्ड stop loss लगाया जाता है। पेनी स्टॉक्स  
                                                                                                                                                                               

  Stop Loss लगाते वक्त  होने वाली गलतियाँ                                                                                                                                                                                                                                                    

 स्टॉप लॉस लगाते वक्त निम्नलिखित गलतियों से बचना चाहिए-                                                                                                                                                                                                                           
स्टॉप लॉस टाइट होना चाहिए लेकिन इतना भी टाइट नहीं होना कि सामान्य सी वोलेटिलिटी के कारण ही टूट जाय।  जैसे किसी शेयर का प्राइस 150 रूपये है और आपने 149.90 पर स्टॉप लॉस लगाया है। किसी  भी स्टॉक का  प्राइस निश्चित दिशा में घूमने पहले एंट्री पॉइंट के आस-पास (ऊपर-नीचे) घूमता है। उसके बाद उसे जिस दिशा होता है, उस दिशा में घूमता है। हर्षद मेहता स्कैम                                                                                                                                                                                                                                                                                          
Position size के आधार पर stop loss लगाना अच्छा नहीं माना, मार्केट की मूवमेंट के आधार पर स्टॉप लॉस लगाना अच्छा माना जाता है। वैसे हमे अपनी पोजीशन को भी नहीं भूलना चाहिए। हमे अपनी पोजीशन को केलकुलेट करने से पहले स्टॉप लॉस सेट कर लेना चाहिए। INDIA VIX
                                                                                                                                                                                                                                                               
कुछ ट्रेडर ये गलती करते हैं कि वो स्टॉप-लॉस ज्यादा दूर लगाते हैं। जिससे उनको स्टॉप-लॉस हिट होने पर नुकसान ज्यादा होता है तथा टार्गेट अचीव होने पर मुनाफा कम  होता है। हमे अपनी पैसे का यूज़ प्रॉफिट कमाने के लिए करना चाहिए तथा नुकसान से बचने की हर संभव कोशिश करनी चाहिए।                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

Stop Loss लगाते वक्त ध्यान देने योग्य बातें                                                                                                                                                                                                                                                     

स्टॉप लॉस हमेशा टेक्निकल एनालिसिस को समझ कर ही लगाना चाहिए। Stock Analysis यदि आप कोई ट्रेड लॉन्ग करते हैं तो आपको सपोर्ट लेवल के ऊपर पोजीशन लेनी चाहिए तथा Stop Loss सपोर्ट लेवल के नीचे लगाना चाहिए।

इसी तरह यदि आप शॉर्ट ( short sell ) का ट्रेड करते हैं तो आपको रेजिस्टेंस लेवल के नीचे ट्रेड में एंट्री करनी चाहिए तथा स्टॉप लॉस रेजिस्टेंस लेवल के ऊपर लगाना चाहिए।जितना स्टॉप  लगाना जरूरी है, उतना ही Stop Loss कहाँ  तथा कैसे लगायें - Stop loss in trading भी जरूरी है।                                                                                                                                                                                                                                                                                               
यदि आपके S & R level टूट जाते हैं तो आपको यह मान लेना चाहिए कि आपका ट्रेड आइडिया गलत था। ट्रेड करते वक्त आपको और ज्यादा सावधानी रखनी चाहिए। कभी भी ट्रेड के साथ इमोशनली अटैच नहीं होना चाहिए। सेंसेक्स और निफ्टी                                                                                                                                                        
Stop loss दो तरह से लगाए जाते हैं, पहला ऑटोमेटिक स्टॉप लॉस दूसरा मेंटल स्टॉप लॉस। आटोमेटिक स्टॉप लॉस तो अपने आप कट जाता है, लेकिन मेन्टल स्टॉप लॉस के साथ ऐसा नहीं है। इसलिए इसके लिए आपको खुद की भावनाओं पर नियंत्रण रखना चाहिए तथा स्टॉप लॉस लगाने के नियमों का सख्ती से पालन करना चाहिए। Nifty fifty

यदि आप शेयर मार्केट एक्सपर्ट बनना चाहते हैं जिससे आप अपने शेयर ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग के निर्णय खुद लेने चाहिए। यदि आप अपने ट्रेड में प्रॉफिट में चल रहे है तो आपको अपने स्टॉप लॉस को भी ऊपर कर लेना चाहिए जिससे आपका प्रॉफिट लॉक हो जाये तथा रिस्क भी कम हो जाय। इसे trailing your stop loss कहते हैं। ग्रे मार्केट प्रीमियम                                                                                                                                                                              
उम्मीद है, अब आप   Stop Loss कहाँ  तथा कैसे लगायें- Stop loss in trading के बारे अच्छे  समझ गए होंगे। आज की प्रेरणादायी पोस्ट आपको जरूरपसंद आयी होगी, ऐसी ही प्रेरणादायी पोस्ट पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर कीजिये। 

आप मुझे facebook पर भी जॉइन  कर सकते हैं। इस पोस्ट से सम्बन्धित कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर भेजें तथा यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।                                                                                                                                                                                                                                                                                                       
  1.  make money from money-paise se paisa kaise kmaaye                                                       
  2. Money mantra for stock market- in Hindi                                                                                
  3. What is Stock Broker and Brokrage fee-in Hindi                                                         
  4. What is Demat Account and how to open Demat Account                                                           
  5.  How to Buy and Sell Stocks Online - In hindi

7 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. Stop loss जैसे मुश्किल टॉपिक को काफी अच्छे से समझाया आपने।
    काफी डिटेल पोस्ट है।

    में भी ब्लॉगर हु और एक पोस्ट इसी टॉपिक पर लिखी है - https://indianmarketer.in/what-is-stop-loss-in-share-market-in-hindi/

    अपना feedback ज़रूर दे।



    https://indianmarketer.in/what-is-stop-loss-in-share-market-in-hindi/

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी जानकारी है मैडम जी , मुझे आपसे प्रेरणा मिलती है |

    जवाब देंहटाएं

Jason Morrow के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.